Half Ticket…Kids and the Expo


Managing kids’ event is no kids game. In the mid summer when heat wave picks up and exams goes on usually in March in Gujarat and moms have all the pressure for kids to score better, making kids participate in an expo where three days full of activities happened which need full energy of kids.…

Top 10 benefits if you want to witness Sunrise…


There are plenty benefits of getting up early from the bed to start all new day of our life. Not necessarily all early risers are successful people but, essentially every successful persons are early risers. Having said that, let’s see few important benefits of rising early. If you get up one hour every day, you…

DIY…D for Digital…I for India…Y for You…


​With few days of 2016 to your credit, absolutely no cash available to one in India, and you struggling for balancing the limited currency notes, worried about remaining notes not deposited in bank, ques outside banks are the permanent scenario since 8th November, wondering where the situation is headed. 2016 in going to be remembered…

आई है फीर से दिवाली


​મારી કલમથી હિન્દી અછાંદસ, પ્રતિભાવો અપેક્ષિત… चारोँ ओर छाई है खुशहाली, जी हाँ  दोस्तो,  आई है फीर से दिवाली। रौनकेँ बिखरी है बाज़ारोमेँ आशाएँ दीख रही आँखोमेँ ऊमँगेँ फैली है दिलोँमेँ कहीँ लाखोँ खर्च हो रहे हैँ खुशीयोँ की चाह मेँ कहीँ गुल्लक टूट रहे हैँ बच्चोँको पटाखे दिलानेमेँ कीतनी हवेलीयाँ नहाई हैँ चाईनीज़ दीपमालाओँकी…

Pathankot to Uri…


We, being Indian civilian citizens, don’t know what war is, we may not have any of our family members working for Indian armed forces. We may not know what is the Indian foreign policy for Pakistan. We may not have made any major sacrifice for our country. But, we definitely feel deep connect with the…

​दोस्ती क्या है?


दोस्ती नजराना है… दोस्ती अफसाना है… दोस्ती तराना है… दोस्ती अहेसास है… दोस्ती जिम्मेदारी है… दोस्ती दिन का उजाला है… दोस्ती रात की चाँदनी है… दोस्ती ठँड मेँ धूप है… दोस्ती धूप मेँ छाँव है… दोस्ती घर के बाहर अपनापन है… दोस्ती मुश्कीलोँ का हल है… दोस्ती घावोँ पे मरहम है… दोस्ती है तो जीवन…

होली के रंग कितने सलामत!!!


फागुन आते ही ढोल नगाड़ों की आवाज़ कानों में होली की दस्तक देने लगती है, बसंती पुरवईयां रंगोत्सत्व का आगाज़ होते ही मौसमों को महका देती हैं. राजस्थानी गवैयों की टोलियां उनके रंगारंग वस्त्रों से ही होली के त्यौहार की अलख जगा देती है. ऐसे में अंगों में रंगों की उमंग फ़ैल जाना लाज़मी है.…

ललकार है, ललकार है…


मेरी कलम से, ललकार है, ललकार है, चुप क्यों बैठा है तु, जब दरकार है, दरकार है, तेरी मध्यस्थता की, पुकार है, पुकार है, भारत माता की, देख,गद्दार है, गद्दार है, नोंच रहे अखंडता को, गुरु कह रहे अफ़ज़लो को, शहीद मान रहे आतंकियों को, कोशिश उनकी देश के टुकड़े, कश्मीर मांगे, औऱ फिर अकड़े,…